स्वदेशी आंदोलन, किसान और कारोबारी बाबा – Hindi article on Baba Ramdev as a business man

बाबा रामदेव उन शख्सों में हैं, जिनकी आम जनमानस में एक व्यापक छवि है. इसके लिए उन्होंने लम्बा संघर्ष भी किया है जिसके लिए उन्हें धन्यवाद दिया जाना चाहिए. हालाँकि, हालिया दिनों में बाबा रामदेव सरकार के साथ अपने संबंधों का इस्तेमाल अपने कारोबार को बढ़ाने के लिए करते देखे जा रहे हैं तो ऐसे में स्वाभाविक प्रश्न उठता है कि सरकार द्वारा उन्हें विशेष दर्जा क्यों दिया जाना चाहिए, विशेषकर कारोबारी क्षेत्र में? दूसरा प्रश्न इसी से जुड़ा हुआ है कि स्वदेशी आंदोलन के पैरोकार बाबा का कारोबार देश…

Guest Blogging ‘मेहमान’

मिथिलेश२०२०.कॉम भारत भर में सही दिशा में सक्रीय हिंदी ब्लॉग्स में से एक है. राजनीतिक हलचल, सामाजिक मुद्दे, पारिवारिक तालमेल, तकनीकी अनुभव, फेसबुक की दुनिया से आपके पास फ्रेश और सबसे अलग कंटेंट देना ही हमारी पहचान है. अगर आपको लगता है कि इस ब्लॉग में और भी सूचनाएं/ लेख/ अनुभव/ सुझाव होने चाहिए, जो छूट गए हैं … तो आप भी बनें गेस्ट ब्लॉगर और करें हमें गेस्‍ट पोस्‍ट. आपके पूरे परिचय और ब्लॉग/ वेबसाइट के लिंक (बैकलिंक) के साथ हम उसे इस ब्लॉग पर पब्लिश करेंगे. मिथिलेश२०२०.कॉम को…

किसानों के साथ हमदर्दी या दिखावा देश के लिए घातक – Sympathy or something else with Indian Farmers

भाजपा की पहली पूर्ण बहुमत सरकार के मुखिया नरेंद्र मोदी को अगर किसी मुद्दे पर सरदर्द हुआ है तो वह निश्चित रूप से किसानों की बदहाली का ही मसला है. यदि यह बात कही जाए कि किसानों की यह हालत कोई एक दिन में नहीं हुई है तो कोई गलत नहीं होगा, किन्तु इसके साथ यह भी उतना ही सच है कि किसानों के मसले पर अपने एक साल के कार्यकाल में मोदीजी ने ध्यान नहीं दिया है. एक बार वह रेडियो पर बहुचर्चित ‘मन की बात’ में किसानों से…

Budget 2015 Analysis

– किसानों के लिए इस बजट में कुछ खास प्रावधान हैं क्या ? – गरीबों के लिए 7 करोड़ घर किस प्रकार बनाये जायेंगे, इसकी ठोस योजना ? – सर्विस-टैक्स बढाकर सरकार ने ‘काला- धन’ बढ़ाने का ही रास्ता खोला है, क्योंकि 12 फीसदी जमा करने में लोगों की नानी याद आ जाती है. इसके बजाय यदि सरकार इसे और घटाती तो आमदनी ज्यादा होती उसकी और काले धन पर बिना कानून ही लगाम लगता. – स्किल डेवलपमेंट के नाम पर कुछ आईआईटी और आईआईएम की घोषणा कर देना ही…

बेटियों की दुनिया: वर्तमान सन्दर्भ – Girls, Women, their current challenges and Government Plan

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी तमाम योजनाओं के साथ बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत कर दी है. महिला एवं बाल विकास, मानव संसाधन मंत्रालय की साथ वाली इस योजना में मुख्य रूप से स्त्री-पुरुष लिंगानुपात घटाने पर ज़ोर देने की बात कही गयी है. इसके अतिरिक्त लड़कियों की उत्तरजीविता और संरक्षण सुरक्षित करना और लड़कियों की शिक्षा पर काम करने का मुख्य लक्ष्य रखा गया है. भारत के नए प्रधानमंत्री का भाषण यूं तो हमेशा ही रोचक होता है, मन से वह भाषण देते हैं, और इस योजना…