ईश्वर का रूप हैं ‘पिता’ – International father’s day, Hindi article, Mithilesh

… आजकल वैश्वीकरण के प्रभाव में हम विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय दिवसों को भी ख़ुशी-ख़ुशी सेलिब्रेट करते हैं. वैसे भी हमारी संस्कृति हर तरह के सद्विचारों और मूल्यों का स्वागत करती रही है और इस लिहाज से प्रत्येक वर्ष जून के तीसरे रविवार को ‘इंटरनेशनल फादर्स डे’ (International father’s day) का दिन प्रत्येक व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण है. आखिर, हर कोई किसी न किसी की ‘संतान’ तो होता ही है और इसलिए उसका फ़र्ज़ बनता है कि वह अपने पिता के प्रति अपने जीवित रहने तक सम्मान का भाव रखे, ताकि अगली पीढ़ियों…

Read More

वृद्धआश्रम नहीं है हमारी संस्कृति का हिस्सा, किन्तु… Old age home culture in India, Social issue, Hindi Article, Mithilesh

… वैसे, यह मामला अकेले कनु भाई का ही नहीं, बल्कि बदलते समय में भारत के अधिकांश वृद्धजन अपने जीवन के अंतिम पड़ाव यानी कि बुढ़ापे को लेकर चिंतित हैं. वहीं दूसरी ओर भारत में बढ़ते ओल्ड ऐज होम (वृद्धाश्रम) के चलन ने इस चिंता को और बढ़ा दिया है. भारत जैसे देश में जहाँ माता-पिता को देवता सामान समझा जाता था, आज वहां बढ़ते वृद्धआश्रम हकीकत बयां करने के लिए काफी हैं कि हमारे समाज में किस नकारात्मक तरीके से बदलाव आ रहा है. महानगरों और नगरों में आधुनिकता…

Read More

महिलाओं के असाधारण जीवट को नमन – Women empowerment, Awards, Hindi Article, Mithilesh

… हमारे देश में जो कई महिलाएं एकाध तनावों से टूट जाती हैं, उन्हें इस महिला से अवश्य ही प्रेरणा प्राप्त करनी चाहिए, जिन्होंने पहली शादी टूटने के बाद भी ज़िन्दगी में अपना विश्वास नहीं खोया, बल्कि 1998 में दूसरी शादी किया और तीन बच्चों की परवरिश करते हुए जया ने 2006 में अपने दोनों वॉल्व के रिप्लेसमेंट के लिए हार्ट सर्जरी करवाई. 2009 में पति द्वारा उत्साहित करने पर एक बार फिर वॉलंटरी सर्विस शुरू किया इस महिला ने और गुजरात के मुंद्रा और कच्छ में कम्प्यूटर क्लास शुरू…

Read More

कॉमेडी का बदलता स्वरुप एवं ‘दी कपिल शर्मा शो’ – Definition of Comedy in Hindi, The Kapil Sharma Show, Hindi Article, Mithilesh

यदि आपने “हम पांच”, ‘तू तू मैं मैं’, ऑफिस-ऑफिस जैसे कॉमेडी शो देखे होंगे तो आपको याद होगा कि उसमें परिस्थितिजन्य हास्य की बातें ज्यादा होती थीं और फूहड़ता कम! इस तरह के शो में कलाकार जो भी दिखते थे, जो भी दिखाते थे, उसमें किसी को आपने आप में ग्लानि महसूस नहीं होती होगी और न कोई किसी के सामने अपनी बेइज्जती ही महसूस करता था, जैसाकि आज-कल के शो में होता है. पुराने कॉमेडी शोज में भाषा भी मर्यादित और शालीन होती थी तो उस समय किसी भी…

Read More

मार्क की पारिवारिक अहमियत के मायने – family, social, facebook zuckerberg donation of 99 percent shares, hindi article

‘वसुधैव कुटुंबकम’ मतलब सम्पूर्ण संसार ही हमारा परिवार है, का मन्त्र और तंत्र देने वाला हमारा भारत संसार से घटकर, असहिष्णु राजनीति (हालिया मुद्दे) , उससे घटकर असामाजिक तंत्र (जातिवादी, भीड़तंत्र मानसिकता), उससे घटकर संयुक्त परिवार विघटन और उससे भी घटकर एकल परिवार में तलाक जैसे मामलों के लगातार बढ़ने तक कब आ पहुंचा है, यह बात गहराई से सोचने पर हमारे सामाजिक दिवालिया होने की ओर मजबूती से ऊँगली उठती प्रतीत होती है. सोचने पर दिमाग कुंद हो जाता है कि रामायण के राम जैसा पारिवारिक नायक देने वाला…

Read More

November 2015, Mithilesh with his brother, family is supreme

मैरिज एनिवर्सरी तो बहाना है, असली बात तो अपनों के करीब आना है :)देवोत्थान एकादशी पर तुलसी-विवाह और हमारा परिवार 🙂 Posted by Mithilesh Kumar Singh on Sunday, November 22, 2015 छठ-पूजा और प्रधानी-चुनाव आस-पास ही हो तो रंग दोगुना हो जाता है… जय छठी मैया की। Posted by Mithilesh Kumar Singh on Tuesday, November 17, 2015 कैसा लगता हैजब पहली बार आठवीं मेंघर छोड़कर हॉस्टल गयाभूला नहींकुछ अलग ही लगाजब पहली बार अकेले गयादेखने सिनेमा डरते… Posted by Mithilesh Kumar Singh on Saturday, November 14, 2015 November 2015, Mithilesh with his brother,…

Read More

हम ज्यादा ‘सहिष्णु’ हो गए… Mithilesh hindi poem on tolerance, intolerance

कल वो घर ख़राब हो गया, जहाँ हम जन्मे, क्योंकि हम ज्यादा बड़े हो गए कल वो गाँव ख़राब हो गया, जहाँ हम पले, क्योंकि हम ज्यादा सभ्य हो गए कल वो शहर ख़राब हो गया, जहाँ हम पढ़े, क्योंकि हम ज्यादा योग्य हो गए आज ये देश ख़राब हो गया, जहाँ हम जिए, क्योंकि हम ज्यादा ‘सहिष्णु’ हो गए कल पृथ्वी ख़राब हो जाएगी, मानव का आधार, क्योंकि हमने ही कचरा फैलाया है और तब खामोश हो जाएगी, जुबानें हमारीं, क्योंकि हमारी रूह ही हमें दुत्कार देगी – मिथिलेश…

Read More

शुभ दीपावली – Happy Diwali

प्रवीण गुप्ता, Nipun Rathee, Raj Bibra and 189 others like this. Comments Sonia Yadav हार्दिक शुभकामनाएँ Unlike · Reply · 1 · 13 hrs Sonia Yadav खुशनसीबो के घर होती हैं खूबसूरत पत्नी। खुशहाल रहे सदा । Unlike · Reply · 1 · 13 hrs Sunil Kushwaha Nice family Unlike · Reply · 1 · 13 hrs Gurdass Morya Happy Diwali you & your family. Unlike · Reply · 1 · 13 hrs Subhash Jha हार्दिक शुभकामना Unlike · Reply · 1 · 13 hrs Sanjay Pandey आपको एवं आपके…

Read More

Social service for your village, Mithilesh, Kaushalesh and blanket distribution preparation

पिछले चार सालों की तरह इस बार भी गाँववासियों के लिए कम्बल की खरीदारी। छोटे भाई कौशलेश के सक्रिय सहभागिता ने उत्साह दूना कर दिया है। हम भाइयों का यह संकल्प है कि अपने पसीने की कमाई से 5 – 10 फीसदी, प्रत्यक्ष रूप से समाज के लिए निकालें। आप सबके आशीर्वाद से हम आजीवन समाज हित में सोचते और करते रहें। 105 Likes25 Comments2 Shares Ranjeet Patel, Sunil Kumar Yadav, Chalte Phirte and 102 others like this. 2 shares Comments Sachin Yadav Bhut badhiya bhai..smile emoticonSee Translation Unlike ·…

Read More

Karwa chauth, hindu festival

Visit: http://vindhyawasini85.blogspot.in/2015/10/karva-chauth.html Karwa chauth, hindu festival

Read More

Aaryansh ki gullak, family happiness

आर्यांश की गुल्लक Aaryansh ki gullak, family happiness

Read More

Bade Papa ka Dular, family is everything for a common man

पापा और बड़े पापा होने का दुलार… Raja Rajput wah to dikh raha hai bhai. October 23, 2014 at 6:59pm · Unlike · 1 Virendra Singh Rawat बहुत भोले-प्यारे बच्चे हैं। October 23, 2014 at 11:02pm · Unlike · 1   Surendra Yadav Good Morning Friend October 24, 2014 at 8:04am · Unlike · 1 Kishor Chhapolia Very cute October 24, 2014 at 11:49am · Unlike · 1   Brajesh Pandey मोबाइल वाला दुलार अच्छा नहीं है। October 24, 2014 at 10:11pm · Unlike · 1 Mithilesh Kumar Singh सलाह…

Read More

थोड़ा और समय – Hindi poem on daily routine of human life, precious moment

सुबह निकलने से पहले ज़रा बैठ जाता उन बुजुर्गों के पास पुराने चश्मे से झांकती आँखें जो तरसती हैं चेहरा देखने को बस कुछ ही पलों की बात थी   ________________ लंच किया तूने दोस्तों के संग कर देता व्हाट्सेप पत्नी को भी सबको खिलाकर खुद खाया या लेट हो गयी परसों की ही तरह कुछ सेकण्ड ही तो लगते तेरे  ________________ निकलने से पहले ऑफिस से देख लेता अपने सहकर्मी को जो संग चलने को कह रहा था पर एक मेल करने को रुका था बस कुछ मिनटों की बात…

Read More

Dussehra festival of hindus, happy vijayadashmi to all Indians, Jai Shri Ram

दशहरा पर्व की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं… भगवान राम के सद्गुणों को आत्मसात करने की प्रेरणा मिले हमें. भाई से स्नेह, एकपत्नी मर्यादा, मित्रवत व्यवहार जैसे उनके बताये जीवन मूल्य को हम अपनाने के योग्य बनें. जय सियाराम 🙂 Dussehra festival of hindus, happy vijayadashmi to all Indians, Jai Shri Ram

Read More

नवरात्रि पर चलायें कन्याओं की रक्षा का अभियान – Hindi article on Navratri and Rape culture in India, Society is Responsible

अनगिनत बुद्धिजीवियों द्वारा, अनेक जगहों पर यह बात कही गयी है कि हिन्दू धर्म सबसे वैज्ञानिक धर्म है और इसके अनेक कर्मकांड सामाजिक कुरीतियों व समस्याओं को दूर करने का सामूहिक प्रयत्न करते हैं. खुद आरएसएस के मोहन भागवत का भी हालिया बयान इसी सन्दर्भ में आया जब उन्होंने हिन्दुओं से वैज्ञानिक सोच रखने की अपील की थी. चाहे आप होली की बात करें, जिसमें अमीर गरीब, छोटे बड़े का भेद मिट जाता है और समाज में समरसता आती है, तो दिवाली में अंधकार के ऊपर प्रकाश की विजय की…

Read More

My brother, my family

मेरे छोटे, मगर दबंग 🙂 भाई… हवाई फायर करते हुए !!! My brother, my family

Read More